राम भक्ति

Search

प्रमुख दर्शनीय स्थल | ram mandir ke beech aur bhi mandir

Table of Contents

ayodhya ram mandir

अयोध्या में भगवान राम से जुड वो प्रमुख स्थान जो आप देख सकते हैं

हनुमानगढ़ी- राम मंदिर से दरी 500 मीटर

अयोध्या मेंराम मंदिर दर्शन केअलावा भगवान राम सेजुड़े और भी कई स्थान हैं।इन
स्थानों पर भगवान राम के िचन्ह मौजूद हैं। येस्थान राम मंदिर केआसपास ही है
महत्व- राम मंदिर जाने से पहले हनुमान मंदिर के दर्शन करने की परंपरा रही
है। मंदिर में जाे मू​िर्त है, उसमें हनुमान जी मां अंजनी की गोद में हैं।
खुलने का समय- सुबह 4.00 बजे से रात 10.00 बजे तक खुला रहता है।

छोटी देवकाली- राम मंदिर से दरी 1 ू किमी

महत्व- यह माता सीता की कु ल देवी का मंदिर है। मान्यता है कि उन्होंने यहां
माता पार्वती की प्रतिमा स्थापित की थी और वे यहां पूजा करने आती थीं।
खुलने का समय – सुबह से रात तक

कनक भवन- राम मंदिर से दरी 1 ू किमी

महत्व- माता कै के यी ने श्रीराम और देवी सीता को यह भवन उपहार में दिया
था। यह उनका व्यक्तिगत महल था। 1885 में ओरछा रियासत की महारानी
वृषभानु कंु वरि जूदेवी ने वर्तमान भवन का निर्माण करवाया था। मंदिर के
मुख्य गर्भगृह में श्रीराम और माता सीताजी की प्रतिमा स्थापित है।
खुलने का समय – सुबह 9.00 बजे से दोपहर 11. 30 बजे तक और शाम
4.30 से रात 9.30 तक

सीता रसोई- राम मंदिर से दरी 1 ू किमी

महत्व – राम जन्म भूमि के उत्तर-पश्चिमी किनारे पर स्थित सीता की रसोई
एक प्राचीन रसोई है। इसका उपयोग सीताजी किया करती थीं।
खुलने का समय – सुबह से रात तक।

सरयू तट- राम मंदिर से दरी 2 ू किमी

महत्व – अयोध्या में 14 प्राचीन घाट हैं। हर घाट से जुड़ी कु छ प्राचीन मान्यताएं
है। पर्व के समय इन घाटों पर भक्त पवित्र स्नान करने जुटते हैं।

मणिराम दास छावनी- राम मंदिर से दरी 1 ू किमी

महत्व- इस मंदिर में आमने-सामने दो हवेलियां हैं। यहां के वाल्मी​िकजी
भवन की दो मंजिलों की दीवारों पर संपूर्ण वाल्मीकि रामायण अंकित है।

रामलला सदन- राम मंदिर से दरी 1 ू किमी

महत्व- अयोध्या में यह पहला ऐसा मंदिर है, जिसे द्रविड़ शैली में बनाया
गया है। यह भगवान श्रीराम के कु लदेवता भगवान विष्णु के स्वरूप
भगवान रंगनाथन का मंदिर है।

दशरथ महल- राम मंदिर से दरी 700 मी ू टर

महत्व- राजा दशर​थ ने यह महल बनवाया था, हालांकि बाद में इसका
कई बार जीर्णोद्धार हुआ। यहां भगवान राम, माता सीता, लक्ष्मण और
भरत की मूर्तियां हैं।

रंग महल- राम मंदिर से दरी 1 ू किमी

महत्व- इस मंदिर के संत खुद को सीताजी की सखी मानते हैं। मान्यता है
कि विवाह के बाद इस मंदिर में माता सीता की मुंह दिखाई रस्म हुई थी

Scroll to Top